Posted by: PRIYANKAR | जनवरी 18, 2007

गिरधर राठी की एक कविता

दिल्लीनामा

 

देखे चांद-सितारे देखे

तनहा-तनहा सारे देखे

 

साहिल और सहारे देखे

हसरत के गुब्बारे देखे

 

बुत मस्जिद गुरुद्वारे देखे

गुरबत के अंगारे देखे

 

तड़-तड़ टूटे ईमां देखे

रोज़ नए बंटवारे देखे

 

दौलत की दीवारें देखीं

ताकत के गलियारे देखे

 

शौक-ओ-अदब के चौबारों पर

रहजन रहबर सारे देखे

 

चौरासी का मरघट देखा

इकहत्तर सैयारे देखे

 

साहिब और मुसाहिब देखे

रह देखी रखवारे देखे

 

उसकी आंखों से जो देखा

राह पडे़ बेचारे देखे

 

अपनी तरफ़ उठी जो नज़रें

धुआं-धुआं नज़्ज़ारे देखे ।

 

********

(समकालीन सृजन के ‘कविता इस समय’ अंक से साभार)


Responses

  1. बहुत ख़ूब! वाह…

  2. कविता अच्छी लगी! आप अपनी कवितायें भी पोस्ट करें प्रियंकरजी!

  3. एक अच्छी कविता पेश करने के लिए धन्यवाद !

  4. बहुत अच्छी कविता !!!

  5. राठीजी की कविता प्रस्तुत करने के लिए आभार ।

  6. बहुत बढ़ियां कविता, बधाई राठी जी को और आपका साधुवाद.

  7. बहुत सुन्दर । इसे हमारे साथ बाँटनें के लिये धन्यवाद ।


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: