Posted by: PRIYANKAR | अप्रैल 13, 2007

अभिधान

वीरेन्द्र प्रसाद सिंह की एक कविता

 

 

 

 

अभिधान

 

संविधान

एक कबूतर

जिसे पर काट कर

उड़ा दिया जाता है

 

सूरज आज़ फिर

पूरब ही उग आया !

चांद की शेष हैं

आज़ भी चौंसठ कलाएं !

दिन और रात

फिर उसी रफ़्तार से है क्या ?

 

बस एक संशोधन और ।

 

**********


Responses

  1. ऐसा है क्या अपना संविधान!


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: