Posted by: PRIYANKAR | अप्रैल 30, 2007

एक बांग्ला कविता

रंजीत कुमार राय की बांग्ला कविता

 ( बांग्ला से अनुवाद : प्रियंकर )

 

 

जीवन आशा

 

नीले आकाश के अकाउण्ट में

अब और जमा नहीं हो रही है

स्वच्छ हवा ।

 

अकुलाहट से भरा मानव

खोज रहा है जीवन की समग्रता

लॉकर के गुमसुम अंधेरे में ।

 

इस कुहासे के छंटते ही

पुनः —

प्रकाश की पिपासा !

जीवन  की    आशा !

 

************

 

                                                          

 

 

 

 

 

 


Responses

  1. कवि से कहिये प्रकाश की पिपासा, जीवन की आशा वो सब ठीक है मगर यह कुहासा जो है वो छंटनेवाला नहीं.. आपनार ओनुबाद किंतु भालो.. आर कोरुन.. छेंटे-छेंटे भालो गुलु बाइरे निये आशुन..

  2. अनुवादक और कवि दोनों को साधुवाद । कभी – कभी देवनागरी में बाँग्ला कविताएँ भी दी जा सकती हैं ? इसका यह मतलब नहीं कि काव्यानुवाद न हो ।

  3. बढ़िया-अनुवाद में भी भाव उभर कर आ रहे हैं. बधाई!!


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: