Posted by: PRIYANKAR | अप्रैल 6, 2009

मुहम्मद अल्वी की एक गज़ल

गज़ल अदब की रानी है

 

एक आंख से   कानी है
गज़ल अदब की रानी है

खुशी बिदेसी है तो क्या
गम तो     हिंदुस्तानी है

बन्दर अपना     दादा है
बिल्ली शेर की नानी है

अबके दिसम्बर में सर्दी
दिल्ली से   मंगवानी है

मार्च में थोड़ी-सी गर्मी
शिमला पर भिजवानी है

रेत ही रेत जमीं पर है
आस्मान पर    पानी है

इसमें तो तुम हंसते हो
ये   तस्वीर     पुरानी है

नक्कादों का कहना क्या
सब उनकी मनमानी है

हुआ खुदा का करना यूं
आगे वही     कहानी है

आज नहीं तो कल ‘अल्वी’
मौत कभी तो   आनी है ।

******


Responses

  1. chhoti bahar men sunder sher kahe hain
    mubarak

  2. आंच लगी तो ये जाना
    दूध नहीं, वह पानी है

    कल तक ही यह अंधी थी
    आज सियासत कानी है

    सिलवट से जो भरी हुई
    मेरी ही पेशानी है

    वोट लूट कर आगे बढ़
    दुनियाँ आनी-जानी है

    मेरे लिए रसूख है जो
    तेरे लिए मनमानी है

    तुझे रोक दें आने से
    तेरी यही कहानी है

    धर्म जेब में लिए चले
    समझो वो अडवानी है

    आतंकी के लिए खड़ा
    देखो जेठमलानी है

    पैसे लेकर उड़ता जो
    वो मुकेश अम्बानी है

    भारत भाग्यविधाता ये
    इनसे ही परेशानी है

  3. सुंदर…
    इसमें तो तुम हंसते हो
    ये तस्वीर पुरानी है

  4. बहुत प्रिय विधा है गजल। पूरी दोनों बड़ी बड़ी हिरन की आंखों वाली। और खूब काजल ढेपारे! कानी तो कदापि नहीं।
    बाकी गजल की तकनीकी जानकारी नहीं, वर्ना हम खुद न लिख लेते!
    मुहम्मद अल्वी जी बहुत बढ़िया लिखते हैं।

  5. बहुत खूब है जी ।
    इनको और पढ़वा सकते हैं क्‍या ।

  6. बहुत अच्‍छी हैं …

  7. इसमें तो तुम हंसते हो
    ये तस्वीर पुरानी है

    क्या बात है …बहुत सुंदर भाव ..धन्यवाद

  8. अल्वी ने जो ग़ज़ल कही
    वह तो लगी पुरानी है।

    नया मसाला झोंक दिया
    वो आशिक ‘मुल्तानी’ है।

    असल नकल का फर्क़ मिटा
    दोनो की मस्त रवानी है।


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: