Posted by: PRIYANKAR | फ़रवरी 25, 2010

गोरख पांडे की कविता और अमिताभ बच्चन का अनुवाद

समझदारों का गीत

हवा का रुख कैसा है, हम समझते हैं
हम उसे पीठ क्यों दे देते हैं, हम समझते हैं
हम समझते हैं ख़ून का मतलब
पैसे की कीमत हम समझते हैं
क्या है पक्ष में विपक्ष में क्या है, हम समझते हैं
हम इतना समझते हैं
कि समझने से डरते हैं और चुप रहते हैं.

चुप्पी का मतलब भी हम समझते हैं
बोलते हैं तो सोच-समझकर बोलते हैं
बोलने की आजादी का
मतलब समझते हैं
टुटपुंजिया नौकरी के लिए
आज़ादी बेचने का मतलब हम समझते हैं
मगर हम क्या कर सकते हैं
अगर बेरोज़गारी अन्याय से
तेज़ दर से बढ़ रही है
हम आज़ादी और बेरोज़गारी दोनों के
ख़तरे समझते हैं
हम ख़तरों से बाल-बाल बच जाते हैं
हम समझते हैं
हम क्यों बच जाते हैं, यह भी हम समझते हैं.

हम ईश्वर से दुखी रहते हैं अगर वह सिर्फ़ कल्पना नहीं है
हम सरकार से दुखी रहते हैं कि वह समझती क्यों नहीं
हम जनता से दुखी रहते हैं क्योंकि वह भेड़ियाधसान होती है.

हम सारी दुनिया के दुख से दुखी रहते हैं
हम समझते हैं
मगर हम कितना दुखी रहते हैं यह भी
हम समझते हैं
यहां विरोध ही बाजिब क़दम है
हम समझते हैं
हम क़दम-क़दम पर समझौते करते हैं
हम समझते हैं
हम समझौते के लिए तर्क गढ़ते हैं
हर तर्क गोल-मटोल भाषा में
पेश करते हैं, हम समझते हैं
हम इस गोल-मटोल भाषा का तर्क भी
समझते हैं.

वैसे हम अपने को
किसी से कम नहीं समझते हैं
हर स्याह को सफेद
और सफ़ेद को स्याह कर सकते हैं
हम चाय की प्यालियों में तूफ़ान खड़ा कर सकते हैं
करने को तो हम क्रांति भी कर सकते हैं
अगर सरकार कमज़ोर हो और जनता समझदार
लेकिन हम समझते हैं
कि हम कुछ नहीं कर सकते हैं
हम क्यों कुछ नहीं कर सकते
यह भी हम समझते हैं.

****

गोरख पाण्डेय की इस कविता का अमिताभ बच्चन द्वारा किया गया अंग्रेज़ी अनुवाद देखें :

THE SONG OF THE SENSIBLE

by Gorakh Pandey ( English translation by Amitabh Bachchan )

 What way the winds blow, I can understand

Why we show our backs to it, I can understand

I understand the meaning of blood

The value of money I understand

What is for and what is against, I can understand

I even understand this

We are scared to be able to understand, and remain silent.

I can understand the meaning of remaining quiet

When we speak we speak with thinking and understanding

The freedom to speak

Its meaning, I can understand

For a pathetic and measly employment

To sell our freedom, the meaning of that I can understand

But what can we do

When unemployment

Rises faster than the injustice

The dangers of freedom and unemployment, I understand

We narrowly escape the dangers of terror

I can understand

Why we escape and get saved, this too I can understand.

We remain disappointed and are pained by the Almighty if he does not just remain an imagination

We remain disappointed and are pained by the Government why it does not understand

We remain disappointed and pained by the common man because it succumbs to a herd mentality.

We remain pained by the pain of the entire world

I can understand

But how much we remain pained by this pain this too

I can understand

That opposition is the desired step to take

I can understand

At every step we make compromising understandings

I can understand

We make deep commitments for this understanding

Every deep commitment we present in ambiguous language

I can understand

The reason for this ambiguous language also

I understand.

Incidently, we do not consider ourselves

Less than anyone, I can understand

Every black to white

And white to black we are capable of converting

We are capable of creating a storm in a tea cup

If we want we can start a revolution also

If the Government is weak and the common man understanding

But I can understand

That there is nothing that we can do

Why there is nothing that we can do

This too I can understand.

****

translation courtesy :  http://blogs.siliconindia.com/Amitabhbachchan


Responses

  1. dilchasp hai sir ji….

  2. क्या अनुवाद में भाषा के रिदम को बचाया जा सकता है–!!!
    हां, कहना ही पड् रहा है। मुझे नहीं पता अनुवाद कैसा है, पर मैं गोरख पांडे की कविता की मूल रिदम में ही रहा अनुवाद में भी।
    सुंदर है भाई।
    बहुत बहुत बधाई।

  3. सब ओर से हम दुखी रहते हैं। इससे भी दुखी रहते हैं कि चौपटस्वामी कतौं बिलाय गये हैं।
    सब ओर से दुखी रहते हैं पर यह गोरख पांडे को पढ़ कर नीक लगा।

  4. यह एक उम्दा कविता लगी…गज़ब…

    अमिताभ बच्चन के अनुवाद में एक चीज़ अच्छी लगी…बस…
    उन्होंने हम का अनुवाद आई `I’ किया है…
    इससे पता चलता है…
    कि कैसे कविता की सामान्यता, व्यक्तिगतता में आभ्यंतरीकृत होती है…

    शायद अमिताभ अपने आप से जूझे हैं…इसके जरिए…
    इस कविता को उनसे बेहतर और कौन समझ सकता है….

  5. हिन्दी के कवि के संस्कार तो झलकते ही थे अमिताभ जी में, अब अंग्रेज़ी के प्रोफ़ेसर के गुणसूत्र भी पकड़ में आए। गोरख पाण्डे की कविता का मर्म नहीं छूटा कहीं भी, न लय टूटी इस अनुवाद में। लगता है अब बिगअड्डा भी जाना पड़ेगा। काम तो तारीफ़ लायक किया ही है न! मगर अपनी समझ की ईमानदार अभिव्यक्ति के लिए तो पाण्डे जी की जितनी तारीफ़ की जाय, वो सब हम प्रियंकर जी को सौंपे देते हैं, ईमानदारी से। काफ़ी गहरे पानी पैठते हैं आप प्रियंकर जी, और इस श्रम और लगन के साथ साथ परिष्कृत चयन के लिए भी आभार।

  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति!

  7. चलो हवा का रुख कैसा है, ज़रा समझते हैं .

  8. kavita sam-samyik hai aur hame(mujhe nahin- jaisa ki Amitabh jee ne likha hai)apne bheetar jhankne ko vadhya karti hai.

  9. A nice post which is showing mirror to all its reader however impact of such things/posts/teachings is still to be measured

  10. […] यह भी हम समझते हैं. ENGLISH TRANSLATION by Amitabh Bachchan HERE) A poet is an unhappy being whose heart is torn by secret sufferings, but whose lips are so […]


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: